Saturday, 12 October 2013

सचिन तेंदुलकर


शाम हो गयी दूर हुआ वो, बनके एक सितारा
खेल जगत का राजा है वो, प्यारा सचिन हमारा  

तुम बिन टीम तो आधी है
और 'blue jersey'  भी सादी है  

हो तुम गौरव, Cricket की भाषा
तुम Cricket देखने की अभिलाषा  

तुम बिन सूनी Cricket की गरिमा
तुम बिन आधी हर Shot की महिमा  

हर Shot किताबी लगते थे
क्या आसानी से खेले थे
Warne
के सपनों में छाए
क्या कादिर-वकार को पेले थे  

शत-शत नमन शतकों को तेरे
'
दो सौ' को सादर नमन
नमन करें बल्ले को तेरे, नमन गुरु अचरेकर को
नमन करें उस 'मात-पिता' को - जिसने पाला तेंदुलकर को
तेरे कौशल को नमन, तेरे शतकों की माला से
'
आशीष' यूं ही ईश्वर का बरसे, तू दूर रहे हर व्याधा से
.......तू दूर रहे हर व्याधा से